Ik Tu Hai Lyrics – Attack

Ik Tu Hai Lyrics from album Attack song is sung by Jubin Nautiyal and Shashwat Sachdev, and has music by Shashwat Sachdev while Kumaar has written by Ik Tu Hai lyrics for Attack. The “Ik Tu Hai” song is from the “Attack” starring John Abraham, Jacqueline Fernandez, Rakul Preet Singh, Prakash Raj, and Ratna Pathak Shah.

IK TU HAI SONG INFO

SingerJubin Nautiyal, Shashwat Sachdev
AlbumAttack
LyricistKumaar
MusicShashwat Sachdev
DirectorLakshya Raj Anand
CastJohn Abraham, Jacqueline Fernandez, Rakul Preet Singh, Prakash Raj, Ratna Pathak Shah
ChoreographyVijay Ganguly
Music LabelZee Music Company

IK TU HAI SONG VIDEO SONG

IK TU HAI LYRICS

Tere bin is dil ne mar jaana
Itminaan hai mujhe tere saath
Itminaan hai mujhe tere saath

Kya karun duniya ke lafzon ka
Itminaan de mujhe teri baat
Itminaan de mujhe teri baat
Teri baat..

Ik tu hai, bas tu hai
Mujhme ab main hoon kahaan
Ik tu hai, bas tu hai
Mujhme ab main hoon kahaan

Tu mujhme reh gaya hai
Mujhme ab main hoon kahan

Tere bin is dil ne mar jaana
Itminaan hai mujhe tere saath
Itminaan hai mujhe tere saath

Kya karun duniya ke lafzon ka
Itminaan de mujhe teri baat
Itminaan de mujhe teri baat
Teri baat..

Main is qadar tujhe hoon jaanta
Tujhe rooh talak hoon pehchanta
Main is qadar tujhe hoon jaanta
Tu bhi khud ko jaane naa x (2)

Ik tu hai, bas tu hai
Mujhme ab main hoon kahan
Tu mujhme reh gaya hai
Mujhme ab main hoon kahan

Ik tu hi tu hai, bas tu hi tu hai x(5)

Main is qadar tujhe hoon jaanta
Tujhe rooh talak hoon pehchanta
Main is qadar tujhe hoon jaanta
Tu bhi khud ko jaane naa

Tu hi tu hai, bas tu hi tu hai
Tu hi tu hai, bas tu hi tu hai
Tu hi tu hai, bas tu hi tu hai
Ik tu hi tu hai, bas tu hi tu hai

Ik tu hai, bas tu hai
Mujhme ab main hoon kahan
Tu mujhme reh gaya hai, mujhme..

Ik tu hai, bas tu hai
Mujhme ab main hoon kahan

Written by:
Kumaar

इक तू है LYRICS IN HINDI

तेरे बिन इस दिल ने मर जाना
इतमीनान है मुझे तेरे साथ
इतमीनान है मुझे तेरे साथ

क्या करूँ दुनिया के लफ़्ज़ों का
इतमीनान दे मुझे तेरी बात
इतमीनान दे मुझे तेरी बात
तेरी बात..

इक तू है, बस तू है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ
इक तू है, बस तू है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ

तू मुझमे रह गया है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ

तेरे बिन इस दिल ने मर जाना
इतमीनान है मुझे तेरे साथ
इतमीनान है मुझे तेरे साथ

क्या करूँ दुनिया के लफ़्ज़ों का
इतमीनान दे मुझे तेरी बात
इतमीनान दे मुझे तेरी बात
तेरी बात..

मैं इस क़दर तुझे हूँ जानता
तुझे रूह तलाक़ हूँ पहचानता
मैं इस क़दर तुझे हूँ जानता
तू भी खुद को जाने ना  x (2)

इक तू है, बस तू है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ
तू मुझमे रह गया है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ

इक तू ही तू है, बस तू ही तू है ज x (5)

मैं इस क़दर तुझे हूँ जानता
तुझे रूह तलाक़ हूँ पहचानता
मैं इस क़दर तुझे हूँ जानता
तू भी खुद को जाने ना

तू ही तू है, बस तू ही तू है
तू ही तू है, बस तू ही तू है
तू ही तू है, बस तू ही तू है
इक तू ही तू है, बस तू ही तू है

इक तू है, बस तू है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ
तू मुझमे रह गया है, मुझमे..

इक तू है, बस तू है
मुझमे अब मैं हूँ कहाँ

Written by:
Kumaar

Leave a Reply